रात साया कहाँ से गुजरा है

रात साया कहाँ से गुजरा है
तुम्हे देखने को चाँद उतरा है

बारिश, हवा, महक सब क्या है
तेरी जुल्फ का एक कतरा है